Blog.Himachal Fruits™

Information about Horticulture & Agriculture just to help growers

Organic cure of canker – Himachal Fruits

Canker is most common problem in fruits growing area It can be suspected in plants if symptoms like sunken, water soaked or gummy in summers and monsoons these symptoms with time become darker, reddish brown to dark black and finally stem or branch die which affect all plant slowly and with time whole orchard. Treatment- […]

What is nitrogen ? how we can feed plants organically – Himachal Fruits

नाइट्रोजन हमारे ग्रह के वायुमंडल में सबसे प्रचूर मात्रा में एक तत्व है। लगभग वातावरण 78% नाइट्रोजन गैस से बना है। नाइट्रोजन एक स्वाभाविक रूप से उत्त्पन तत्व है जो की दोनों पौधों और जानवरों के विकास में और प्रजनन के लिए आवश्यक है। नाइट्रोजन अमीनो एसिड और यूरिया का एक घटक है। एमिनो एसिड […]

– Himachal Fruits

: Organic farming can not feed the world. : People on anabolic steroids do indeed put on more muscle mass than people not taking steroids. Does this mean we should take steroids in order to be healthier and more muscular? Of course not. The same basic logic applies to our agricultural system. We fully acknowledge […]

Apple Scab Management

    Apple scab can be successfully managed by integrating #resistant #varieties, cultural practices, and chemical or #biological control. ✔Variety #selection Planting resistant or scab-immune apple varieties is the ideal method for managing scab. ✔Cultural #practices #Rake and #destroy fallen leaves below apple and crabapple trees in the fall (Figure 4). This will dramatically reduce the number of spores that can start the #disease #cycle (Figure 3) […]

जड़ों के बारे में त्वरित तथ्य – HimachalFruits

अधिकांश पेड़ की जड़ें मिट्टी के शीर्ष 6 से 36 इंच में स्थित होती हैं और जो की लगभग #पेड़ के मुकुट (crown) के व्यास से दो से चार गुना अधिक क्षेत्र पर कब्जा कर लेती हैं। जड़ें #मिट्टी से पानी, ऑक्सीजन और खनिज प्राप्त करती हैं। इसके अलावा वे किसी भी चीज या किसी विशेष दिशा में नहीं […]

Improve rhizosphere use PGPR – Himachalfruits

“Soil Booster”- A unique #formulation to improve root zone #environment ( #rhizosphere). includes plant roots and the surrounding soil. During seed #germination and seedling growth, the developing plant interacts with a range of microorganisms present in the surrounding soil. As #seeds germinate and roots grow through the soil, the release of organic material provides the driving force for the development of active #microbial populations in a […]

रुट रॉट जैसे समस्यों से निजाद पाने के लिए राइजोस्फीयर में बदलाव जरुरी – हिमाचल फ्रूट्स™️

  हिमाचल फ्रूट्स आप को पी.जी.पी.आर. जो की ” साइल बूस्टर ” के नाम से आता है प्रयोग करने की सलाह देगा, अपने बगीचों में इसे साल में एक बार जरूर प्रयोग करें। मानसून का समय उचित है। और भी समाधान है जाने आगे , राइजोस्फीयर इंजीनियरिंग के लिए वर्तमान और भविष्य के लक्ष्य राइजोस्फीयर […]

keep looking »